Home एग्रीकल्चर इंटरनेशनल मई में खाद्य एवं अखाद्य तेलों के आयात में पांच फीसदी की कमी आई
मई में खाद्य एवं अखाद्य तेलों के आयात में पांच फीसदी की कमी आई
मई में खाद्य एवं अखाद्य तेलों के आयात में पांच फीसदी की कमी आई

मई में खाद्य एवं अखाद्य तेलों के आयात में पांच फीसदी की कमी आई

खाद्य एवं अखाद्य तेलों के आयात में मई में पांच फीसदी की कमी आकर कुल आयात 12,21,989 टन का हुआ है जबकि पिछले साल मई में इनका आयात 12,86,240 टन का आयात हुआ था। इस दौरान 11,80,786 टन खाद्य एवं 41,203 टन अखाद्य तेलों का आयात हुआ है।

साल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन आफ इंडिया (एसईए) के अनुसार चालू तेल वर्ष 2018-19 (नवंबर-18 से अक्टूबर-19) के पहले सात महीनों में खाद्य एवं अखाद्य तेलों के आयात 2 फीसदी की बढ़ोतरी होकर कुल आयात 87,63,678 टन का हुआ है जबकि पिछले तेल वर्ष की समान अवधि में इनका आयात 86,04,535 टन का हुआ था। चालू तेल वर्ष के पहले सात महीनों में आरबीडी पॉमोलीन का आयात 38 फीसदी बढ़कर 15,70,112 टन का हुआ है जबकि पिछले तेल वर्ष की समान अवधि में इसका आयात 11,38,185 टन का हुआ था। मलेशिया द्वारा क्रुड पॉम तेल और रिफाइंड तेल के निर्यात शुल्क में अंतर कम किए जाने से क्रुड के बजाए आरबीडी पॉमोलीन तेल का आयात बढ़ा है।

अप्रैल के मुकाबले मई में आयातित खाद्य तेलों की कीमतों में आई गिरावट

एसईए के अनुसार उपलब्धता ज्यादा होने के कारण साल भर में विदेशी बाजार में खाद्य तेलों की कीमतों में 8 से 20 फीसदी का मंदा आया है। सालभर में रुपया भी डॉलर के मुकाबले करीब तीन फीसदी कमजोर हुआ है। आयातित खाद्य तेलों की कीमतों में भी अप्रैल के मुकाबले मई में गिरावट आई है। आरबीडी पॉमोलीन का भाव घटकर भारतीय बंदरगाह पर मई में औसतन 543 डॉलर प्रति टन रह गया जबकि अप्रैल में इसका भाव 569 डॉलर प्रति टन था। इसी तरह से क्रुड पॉम तेल का भाव अप्रैल में 530 डॉलर प्रति टन था, जोकि मई में घटकर 498 डॉलर प्रति टन रह गया। हालांकि कुड सोयाबीन तेल की कीमतों में इस दौरान जरुर हल्का सुधार आया है। अप्रैल में कुड सोयाबीन तेल का भाव भारतीय बंदरगाह पर 692 डॉलर प्रति टन था, जोकि मई में बढ़कर 703 डॉलर प्रति टन हो गया।