Home एग्रीकल्चर इंटरनेशनल केंद्र सरकार ने यूरोपियन यूनियन को चावल निर्यात नियम सख्त किए, निर्यात सौदे हो सकते हैं प्रभावित
केंद्र सरकार ने यूरोपियन यूनियन को चावल निर्यात नियम सख्त किए, निर्यात सौदे हो सकते हैं प्रभावित
केंद्र सरकार ने यूरोपियन यूनियन को चावल निर्यात नियम सख्त किए, निर्यात सौदे हो सकते हैं प्रभावित

केंद्र सरकार ने यूरोपियन यूनियन को चावल निर्यात नियम सख्त किए, निर्यात सौदे हो सकते हैं प्रभावित

केंद्र सरकार ने यूरोपियन यूनियन के देशों को चावल के निर्यात नियमों को सख्त कर दिया है। इन देशों को चावल निर्यात करने के लिए अब निर्यातकों को निर्यात निरीक्षण एजेंसी या निर्यात निरीक्षण परिषद से प्रमाण-पत्र लेना अनिवार्य होगा। इसका असर चावल के निर्यात सौदों पर पड़ने की आशंका है। विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) की अधिसूचना के अनुसार यूरोपियन यूनियन के देशों को बासमती के साथ ही गैर-बासमती चावल के निर्यात के लिए निर्यातकों को निर्यात निरीक्षण एजेंसी या निर्यात निरीक्षण परिषद से प्रमाण-पत्र लेना होगा। यह फैसला तत्काल लागू हो गया है। सूत्रों के अनुसार चावल में पेस्टीसाइड होने की वजह से सरकार ने निरीक्षण प्रमाण-पत्र को अनिवार्य किया है।

इससे चावल के निर्यात पर असर पड़ने की आशंका

हरियाणा के करनाल स्थित बासमती चावल की निर्यात फर्म के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस फैसले से बासमती के साथ ही गैर-बासमती चावल के निर्यात सौदों पर असर पड़ेगा। उन्होंने कहा कि यूरोप के एक-दो देश इस तरह की मांग कर रहे थे, लेकिन सरकार ने यूरोपियन यूनियन के सभी देशों के लिए इसे अनिवार्य कर दिया है। इसको देखते हुए अन्य आयातक देश जो भारत से बड़ी मात्रा में बासमती और गैर-बासमती चावल का आयात करते हैं, इस तरह की मांग कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि यूरोपियन यूनियन के देशों को बासमती चावल का कुल निर्यात करीब तीन लाख टन का होता है। गैर-बासमती का निर्यात तो सीमित मात्रा में ही होता है। वैसे भी चालू वित्त वर्ष 2019-20 की पहली छमाही (अप्रैल से सितंबर) के दौरान बासमती और गैर-बासमती चावल के निर्यात में कमी आई है। ईरान को बासमती चावल के निर्यात सौदे नहीं हो रहे हैं, जबकि सऊदी अरब को भी सीमित मात्रा में ही निर्यात हो रहा है। ऐसे में अन्य देशों ने भी निर्यात निरीक्षण की मांग की तो इसका सीधा असर चावल के निर्यात पर पड़ेगा।

पहली छमाही में बासमती और गैर बासमती चावल का निर्यात घटा

इस वित्त वर्ष की पहली छमाही अप्रैल से सितंबर के दौरान बासमती चावल के निर्यात में 11.33 फीसदी की कमी आई है और कुल निर्यात 18.70 लाख टन का हुआ है। पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में इसका निर्यात 20.82 लाख टन का हुआ था। गैर-बासमती चावल का निर्यात घटकर 25.17 लाख टन रह गया है जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में इसका निर्यात 38.68 लाख टन का हुआ था। वित्त वर्ष 2018-19 में देश से बासमती चावल का कुल निर्यात 44.14 लाख टन का और गैर-बासमती का 75.99 लाख टन का हुआ था।