Home एग्रीकल्चर इंटरनेशनल केंद्र ने दलहन आयात को दी मंजूरी, आखिर किसको फायदा पहुंचाना चाहती है सरकार
केंद्र ने दलहन आयात को दी मंजूरी, आखिर किसको फायदा पहुंचाना चाहती है सरकार
केंद्र ने दलहन आयात को दी मंजूरी, आखिर किसको फायदा पहुंचाना चाहती है सरकार

केंद्र ने दलहन आयात को दी मंजूरी, आखिर किसको फायदा पहुंचाना चाहती है सरकार

घरेलू मंडियों में किसान समर्थन मूल्य से आधी कीमत पर दालें बेचने को मजबूर है, इससे बेखबर केंद्र सरकार ने दाल मिलों को अरहर, उड़द और मूंग के आयात की मंजूरी दे दी है।

विदेशी व्यापार महानिदेशाल (डीजीएफटी) द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार देशभर की 345 दाल मिलों को दलहन आयात की मंजूरी दी गई है। इसके तहत 1,99,891 टन अरहर, 1,49,964 टन मूंग और 1,49,982 टन उड़द का आयात किया जायेगा।

डीजीएफटी के अनुसार दाल मिलों को 30 अगस्त 2018 से पहले दलहन की शिपमेंट लोड करानी होगी तथा 31 अगस्त तक सभी आयातकों को इसकी जानकारी क्षेत्रीय प्राधिकरण को देनी होगी।

एमएसपी से नीचे बिक रही हैं दालें

महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के साथ ही अन्य राज्यों की उत्पादक मंडियों में किसान 3,000 से 3,200 रुपये प्रति क्विंटल के भाव अरहर बेच रहे हैं जबकि केंद्र सरकार ने अरहर का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 5,450 रुपये प्रति क्विंटल तय कर रखा है। इसी तरह से उड़द के भाव उत्पादक मंडियों में 3,550 से 3,750 रुपये प्रति क्विंटल चल रहे है जबकि उड़द का समर्थन मूल्य केंद्र सरकार ने 5,400 रुपये प्रति क्विंटल तय किया हुआ है। मूंग के भाव उत्पादक मंडियों में 4,200 से 4,400 रुपये प्रति क्विंटल है जबकि मूंग का एमएसपी 5,575 रुपये प्रति क्विंटल है।

रिकार्ड पैदावार का अनुमान

कृषि मंत्रालय के तीसरे आरंभिक अनुमान के अनुसार फसल सीजन 2017-18 में 245.1 लाख टन का रिकार्ड उत्पादन होने का अनुमान है जबकि पिछले फसल सीजन में इनका उत्पादन 231.3 लाख टन का हुआ था।