Home एग्रीकल्चर इंटरनेशनल खेती को बढ़ावा देने के लिए वर्ल्ड बैंक से महाराष्ट्र को मिले 1,500 करोड़ रुपये
खेती को बढ़ावा देने के लिए वर्ल्ड बैंक से महाराष्ट्र को मिले 1,500 करोड़ रुपये
खेती को बढ़ावा देने के लिए वर्ल्ड बैंक से महाराष्ट्र को मिले 1,500 करोड़ रुपये

खेती को बढ़ावा देने के लिए वर्ल्ड बैंक से महाराष्ट्र को मिले 1,500 करोड़ रुपये

महाराष्ट्र में विश्व बैंक से वित्तपोषित परियोजनाओं के लिए लगभग 50 कंपनियों ने 2,000 करोड़ रुपये साझेदारी समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं। इन परियोजनाओं का लक्ष्य कृषि क्षेत्र का विकास करना है जिससे किसानों की बेहतर आय सुनिश्चित हो सके।

न्यूज एजेंसी पीटीआई के अनुसार मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि कृषि व्यवसाय और ग्रामीण परिवर्तन परियोजना में किये जाने वाले 2,000 करोड़ रुपये के निवेश में, विश्व बैंक 1,500 करोड़ रुपये का योगदान दे रहा है, जबकि राज्य की ओर से 430 करोड़ रुपये का वित्त पोषण हो रहा है और शेष 70 करोड़ रुपये ‘विलेज सोशल ट्रांसफॉर्मेशन फाउंडेशन’ के माध्यम से लिये जाएंगे।

किसान की आय में सुधार लाने पर जोर

उन्होंने कहा कि परियोजना का उद्देश्य कृषि मूल्य श्रृंखला में सुधार करना और किसानों को एग्री जिंसों का उचित मूल्य दिलवाना है। उन्होंने कहा कि पांच दिसंबर को 49 कंपनियों ने इस समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। विलेज सोशल ट्रांसफॉर्मेशन फाउंडेशन ने 22 निगमित कंपनियों और ‘स्टार्ट-अप’ के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं ताकि अंतिम खरीदारों के साथ सीधा समझौता सुनिश्चित करके किसानों के लिए कृषि उत्पादकता और उचित मूल्य प्राप्ति पर ध्यान केंद्रित किया जा सके।

भारत की बड़ी कपंनियों ने किया है समझौता

जिन बड़े नामों ने इस साझेदारी में भागीदारी की है उनमें से कुछ बड़े नाम टाटा समूह, वॉलमार्ट इंडिया, अमेजन, आईटीसी, महिंद्रा एग्रो और पतंजलि है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह परियोजना अगले तीन वर्षों में 10,000 गांवों तक पहुंच जाएगी जिससे तीन लाख किसानों को लाभान्वित करेगी।

बाजार आधारित खेती को बढ़ावा

विश्व बैंक के भारत में निदेशक जुनाद अहमद ने कहा कि महाराष्ट्र का उत्पादन-आधारित खेती से बाजार आधारित खेती की ओर जाना सराहनीय कदम है। जैसे-जैसे अर्थव्यवस्था विकसित होती है और शहरीकरण बढ़ता है, तो किसी को भी पीछे नहीं छोड़ा जाना चाहिए और कृषि को विकसित करना ही होगा। वॉलमार्ट इंडिया के अध्यक्ष कृष्णा अय्यर ने कहा कि उनकी कंपनी राज्य में अगले तीन से पांच वर्षों में 15 स्टोर खोलेगी जो प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष दोनों स्तर पर 30,000 से 35,000 रोजगार पैदा करेंगे।

अय्यर ने कहा कि उनकी कंपनी लगभग पांच बागवानी फसलों को खरीदने की योजना बना रही है, जिनमें स्ट्रॉबेरी, अनार, अंगूर इत्यादि शामिल हैं। इसके लिए उसने पहले से ही जमीनी स्तर पर काम शुरू कर दिया है और भर्ती चालू कर दी है।