Home एग्रीकल्चर एग्री ट्रेड संयुक्त अभियान से पंजाब के दो गांव से टिड्डियों का पूरी तरह से सफाया
संयुक्त अभियान से पंजाब के दो गांव से टिड्डियों का पूरी तरह से सफाया
संयुक्त अभियान से पंजाब के दो गांव से टिड्डियों का पूरी तरह से सफाया

संयुक्त अभियान से पंजाब के दो गांव से टिड्डियों का पूरी तरह से सफाया

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह के निर्देशों पर चलाई गई एक साझी मुहिम ने  भारत-पाक सरहद के साथ लगते फाजिल्का जिले के दो प्रभावित गाँवों से टिड्डियों का पूरी तरह सफाया कर दिया है।

मुख्यमंत्री के निर्देशों पर वित्त कमिश्नर (विकास) विसवाजीत खन्ना द्वारा जारी दिशा निर्देशों के मुताबिक गांव रूपनगर और बरेका में डिप्टी कमिश्नर फाजिल्का की निगरानी में लगभग 12 घंटों का अभियान चलाया गया। सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि खन्ना ने मुख्यमंत्री के आदेशों पर अमल करते हुए कृषि विभाग के सचिव केएस पन्नू को निर्देश दिए थे कि वह दोनों गाँवों में टिड्डियों के झूँडों के हमले से निपटने के लिए जमीनी स्तर पर एक प्रभावशाली रणनीति तैयार की जाये।

खन्ना ने डिप्टी कमिश्नर फाजिल्का को कहा कि वह टिड्डियों की मार से प्रभावित इन गाँवों में से टिड्डियों के खात्मे हेतु योजना बनाए, और सारी स्थिति का जायजा लेकर निजी तौर पर अभियान की निगरानी करें। इसके बाद उपायुक्त फाजिल्का ने इस सम्बन्ध में शुरु की गई योजनाओं का जायजा लेने के लिए देर रात सभी जिला स्तरीय संबंधित विभागों की बैठक की।

बीएसएफ, फायर ब्रिगेड, कृषि और बागवानी विभाग का संयुक्त अभियान

इस दौरान राज्य के कृषि सचिव पन्नू ने रविवार रात 9 बजे कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ एक मीटिंग भी की और इसे बारे में चेतावनी जारी की। उन्होंने सभी संबंधित अधिकारियों को एमरजैंसी ड्यूटी पर नियुक्त किया और कृषि विभाग के डायरैक्टर और संयुक्त डायरेक्टर को फाजिल्का जिले में टिड्डी दल के हमले से प्रभावित स्थानों का तुरंत दौरा करने के लिए कहा। अबोहर पहुचने पर कृषि विभाग के डायरेक्टर ने सुबह 5 बजे अधिकारियों के साथ विस्तार में चर्चा की और फाजिल्का के डिप्टी कमिश्नर की निगरानी में बीएसएफ, फायर ब्रिगेड, कृषि और बागवानी विभाग, पंजाब कृषि यूनिवर्सिटी, फाजिल्का जिले के सिविल और पुलिस प्रशासन के अलावा किसानों के साथ मिलकर साझी मुहिम की कमान संभाली। सभी टीमों को कीटनाशकों की पर्याप्त मात्रा मुहैया करवाई गई।

पंजाब ने मुख्यमंत्री ने इस बाबत प्रधानमंत्री को पत्र भी लिखा है

टिड्डी दल को काबू करने के लिए बूमर स्प्रे, ट्रैक्टर पर लगा हुआ उच्च रफ्तार स्प्रे और फायर ब्रिगेड वाहन का प्रयोग किया गया। यह मुहिम टिड्डी दल के पूरी तरह से खात्मे के साथ सुबह 10 बजे समाप्त हुई। राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने राजस्थान की सरहद के साथ लगते दक्षिणी पंजाब के जिलों में टिड्डी दल द्वारा फसलों पर हमले से निपटने के लिए प्रधानमंत्री को पत्र भी लिखा था। उन्होंने प्रधानमंत्री से अपील की है कि वह केंद्रीय विदेश मंत्रालय और इस्लामाबाद में भारतीय हाई कमीशन के माध्यम इस मामले को पाकिस्तान सरकार के समक्ष उठाये, जहां से यह टिड्डी दल भारत में दाखि़ल हो रहा है।

गुजरात और राजस्थान में रबी फसलों को टिड्डी दल ने किया है नुकसान

गुजरात और राजस्थान में फसलों को बर्बाद करने के बाद टिड्डी दल ने पंजाब और हरियाणाा के गांव में भी प्रवेश कर लिया है, जिसने इन राज्यों के किसानों की चिंता बढ़ा दी है। राजस्थान के सीमा से सटे पंजाब और हरियाणा के कई गांव में टिड्डियों के दल देखे गए हैं। पाकिस्‍तान का बलूचिस्‍तान और यमन टिड्ड‍ियों का प्रजनन केंद्र माना जाता है। यहां सर्दी में टिड्डी का प्रजनन होता है। हवा का रुख बदलने से पाक व अन्‍य क्षेत्र से टिड्ड‍ियां भारत में प्रवेश करती है। सामान्‍यत: बारिश में ही पाकिस्‍तान से भारत तक ये टिड्ड‍ियां पहुंचती थी, लेकिन इस बार सर्दियों में बड़े पैमाने पर पाकिस्तान से टिड्ड‍ियों का दल भारत आया है, जिससे देश के सीमावर्ती क्षेत्रों में फसलों को भारी नुकसान हुआ है।