Home एग्रीकल्चर एग्री ट्रेड राजस्थान में खाद्यान्न उत्पादन में कमी की आशंका
राजस्थान में खाद्यान्न उत्पादन में कमी की आशंका
राजस्थान में खाद्यान्न उत्पादन में कमी की आशंका

राजस्थान में खाद्यान्न उत्पादन में कमी की आशंका

फसल सीजन 2018-19 में राजस्थान में खाद्यान्न के उत्पादन में 2.09 लाख टन की कमी आकर कुल उत्पादन 218.28 लाख टन ही ही होने का अनुमान है जबकि पिछले साल 220.37 लाख टन का उत्पादन हुआ था।

राज्य के कृषि निदेशालय के तीसरे आरंभिक अनुमान के अनुसार फसल सीजन 2018-19 में गेहूं का उत्पादन घटकर 102,96,095 टन ही होने का अनुमान है जबकि पिछले साल राज्य में 112,08,087 टन गेहूं का उत्पादन हुआ था। इसी तरह से जौ का उत्पादन चालू रबी में घटकर 7,55,407 टन ही होने का अनुमान है जबकि पिछले साल 9,08,604 टन जौ का उत्पादन हुआ था।

बाजरा का उत्पादन कम

मोटे अनाजों में बाजरा का उत्पादन 37,64,687 टन, मक्का का 19,83,322 टन और ज्वार का 4,69,756 टन होने का अनुमान है जबकि फसल सीजन 2017-18 में राज्य में 37,51,525 टन बाजरा, 17,94,652 टन मक्का तथा 3,00,831 टन ज्वार का उत्पादन हुआ था।

चना का उत्पादन बढ़ने की संभावना

चालू रबी में राज्य में दलहन की प्रमुख फसल चना का उत्पादन 21,87,962 टन होने का अनुमान है जबकि पिछले साल राज्य में 16,70,265 टन चना का उत्पादन हुआ था। अन्य दालों में मूंग का उत्पादन 12,21,099 टन, उड़द का 3,75,929 टन, मोठ का 2,22,584 टन का उत्पादन होने का अनुमान है। फसल सीजन 2017-18 में राज्य में मूंग का उत्पादन 9,75,766 टन का, उड़द का 5,23,622 टन का और मोठ का उत्पादन 3,23,338 टन का ही हुआ था।

सरसों और मूंगफली का उत्पादन अनुमान ज्यादा

तीसरे आरंभिक अनुमान के अनुसार राज्य में सरसों का उत्पादन 40,81,501 टन होने का अनुमान है जबकि पिछले साल राज्य में 34,01,126 टन का ही उत्पादन हुआ था। मूंगफली का उत्पादन राज्य में पिछले साल के 12,59,159 टन से बढ़कर 13,75,486 टन होने का अनुमान है। सोयाबीन का उत्पादन भी पिछले साल के 10,69,830 टन से बढ़कर 11,68,664 टन होने का अनुमान है।