Home एग्रीकल्चर एग्री ट्रेड प्याज की जमाखोरी पर कड़ी नजर, जल्द आपूर्ति बढ़ेगी-पासवान
प्याज की जमाखोरी पर कड़ी नजर, जल्द आपूर्ति बढ़ेगी-पासवान
प्याज की जमाखोरी पर कड़ी नजर, जल्द आपूर्ति बढ़ेगी-पासवान

प्याज की जमाखोरी पर कड़ी नजर, जल्द आपूर्ति बढ़ेगी-पासवान

प्याज की बढ़ी कीमतों को नियंत्रित करने के उपायों की समीक्षा के लिए आज केंद्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने सचिव, उपभोक्ता मामले और सचिव, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण के साथ बैठक की। बताया गया कि खरीफ की बुवाई में देरी के कारण प्याज की नई फसल बाजार में देर से पहुंच रही है।

प्याज की जमाखोरी पर कड़ी नजर रखी जा रही है। बहुत प्याज की जमाखोरी पर कड़ी नजर बड़ी तादाद में शुरू हो जाएगी, जिससे कीमतें तेजी से नीचे आएंगी। बाजार में प्याज की आपूर्ति बढ़ाने के लिए इजिप्ट, टर्की, ईरान और अफगानिस्तान से प्याज आयात करने की प्रक्रिया जारी है। विदेश और कृषि मंत्रालय से अनुरोध किया गया है कि इन देशों से बात कर निजी कंपनियों को प्याज के आयात की सुविधा उपलब्ध कराएं। प्याज उत्पादक राज्यों, खासकर महाराष्ट्र और कर्नाटक में अधिक बारिश के कारण फसल को काफी नुकसान पहुंचा है। प्याज की ढुलाई में भी परेशानी आ रही है। सरकार अपने बफर स्टॉक से लगातार प्याज की आपूर्ति कर रही है।

प्याज की कीमतों में आई तेजी रोकने के लिए सरकार ने इसका आयात करने का निर्णय लिया है। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के सचिव की अध्यक्षता में हुई अंतर-मंत्रालय समिति की बैठक में अफगानिस्तानमिस्रतुर्की और ईरान स्थित भारतीय मिशनों को इसके लिए कहने का निर्णय लिया गया। इस बीच, दिल्ली की आजादपुर मंडी में बुधवार को प्याज की थोक कीमतों में 10 से 12 रुपये प्रति किलो की गिरावट दर्ज की गई। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के सचिव की अध्यक्षता में हुई बैठक में प्याज की कीमतों की समीक्षा की गई। उपभोक्ता मामले मंत्रालय के अनुसार अफगानिस्तानमिस्रतुर्की और ईरान स्थित भारतीय मिशनों को प्याज की आपूर्ति के लिए कहा गया है। उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही 80 से 100 कंटेनर प्याज के भारत पहुंचेंगे। इसके साथ ही सरकार महाराष्ट्र एवं अन्य दक्षिणी राज्यों से उत्तर भारत में प्याज की आपूर्ति बढ़ाने का प्रयास भी कर रही है।

दिल्ली में प्याज की दैनिक आवक राजस्थान से बढ़ी

दिल्ली-एनसीआर में प्याज की फुटकर कीमतें 75-80 रुपये प्रति किलो चल रही हैं। दैनिक आवक बढ़ने से अगले एक-दो दिनों में इसमें गिरावट आने की उम्मीद है। दिल्ली की आजादपुर मंडी के प्याज कारोबारी राजेंद्र शर्मा ने बताया कि बुधवार को राजस्थान से प्याज की दैनिक आवक बढ़कर 25,000 कट्टों (एक कट्टा-40 किलो) की हुई जबकि मंगलवार को राजस्थान से 17,000 कट्टों की आवक हुई थी। इसके अलावा करीब 50 ट्रक प्याज की आवक महाराष्ट्रकर्नाटक और अन्य राज्यों से हुई है। उन्होंने बताया कि प्याज की आवक बढ़ने से बुधवार को इसके थोक भाव में 10 से 12 रुपये प्रति किलो का मंदा आकर भाव 20 से 50 रुपये प्रति किलो रह गए। उन्होंने बताया कि राजस्थान में मौसम साफ है इसलिए आगे राजस्थान से नए प्याज की दैनिक आवक और बढ़ेगीजिससे प्याज की कीमतों में और मंदा आयेगा।

महाराष्ट्र की मंडियों में भाव में आई नरमी

लासलगांव की कृषि उपज विपणन समिति (एपीएमसी) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मंगलवार की तुलना में बुधवार को मंडी में प्याज की थोक कीमतों में रुपये प्रति किलो की गिरावट दर्ज की गई। उन्होंने बताया कि मंडी में मंगलवार को बढ़िया क्वालिटी के प्याज के दाम उपर में 53 रुपये प्रति किलो थेजो बुधवार को घटकर 50 रुपये प्रति किलो रह गए। मंडी में प्याज की दैनिक आवक 4,500 क्विंटल की हुई। राष्ट्रीय बागवानी अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान (एनएचआरडीएफ) के अनुसार महाराष्ट्र की पीपलगांव मंडी में बुधवार को प्याज के भाव 27 से 50.50 रुपये प्रति किलो रहे जबकि मंगलवार को इसके भाव 21 से 53 रुपये प्रति किलो थे। मंडी में प्याज की दैनिक आवक 3,600 क्विंटल की हुई।