Home एग्रीकल्चर एग्री ट्रेड कपास का 20 लाख गांठ का हो चुका है निर्यात, 192 लाख गांठ की हुई आवक
कपास का 20 लाख गांठ का हो चुका है निर्यात, 192 लाख गांठ की हुई आवक
कपास का 20 लाख गांठ का हो चुका है निर्यात, 192 लाख गांठ की हुई आवक

कपास का 20 लाख गांठ का हो चुका है निर्यात, 192 लाख गांठ की हुई आवक

पहली अक्टूबर 2019 से शुरू हुए चालू फसल सीजन 2019-20 में अभी तक 20 लाख गांठ (एक गांठ-170 किलो) कपास की निर्यात शिपमेंट हो चुकी है जबकि इस दौरान 10 लाख गांठ का आयात भी हो चुका है। कपास का उत्पादन अनुमान चालू सीजन में 13.62 फीसदी बढ़कर 354.50 लाख गांठ होने का अनुमान है तथा जनवरी अंत तक 192.89 लाख गांठ की आवक भी हो चुकी है।

कॉटन एसोसिएशन आफ इंडिया (सीएआई) के अनुसार चालू फसल सीजन में 31 जनवरी तक 20 लाख गांठ का निर्यात हो चुका है जबकि चालू सीजन में कुल निर्यात 42 लाख गांठ होने का अनुमान है जोकि पिछले साल के लगभग बराबर है। सीएआई के अनुसार कपास का आयात चालू सीजन में 31 जनवरी तक 10 लाख गांठ का हो चुका है तथा कुल आयात 25 लाख गांठ का ही होने का अनुमान है जबकि पिछले साल 32 लाख गांठ का आयात हुआ था।

गुजरात, महाराष्ट्र में उत्पादन अनुमान ज्यादा

सीएआई के अनुसार चालू सीजन में गुजरात में कपास का उत्पादन 96 लाख गांठ, महाराष्ट्र में 85 लाख गांठ और मध्य प्रदेश में 16 लाख गांठ होने का अनुमान है जबकि पिछले साल इन राज्यों में क्रमश: 88 लाख गांठ, 70 लाख गांठ और 22.63 लाख गांठ का उत्पादन हुआ था। तेलंगाना में चालू सीजन में 51 लाख गांठ, आंध्रप्रदेश में 15 लाख गांठ, कर्नाटक में 20.50 लाख गांठ और तमिलनाडु में पांच लाख गांठ उत्पादन का अनुमान है। उत्तर प्रदेश के राज्यों पंजाब में चालू सीजन में 10 लाख गांठ, हरियाणा में 26 लाख गांठ और राजस्थान में 25 लाख गांठ के उत्पादन का अनुमान है।

मंडियों में 192.89 लाख गांठ कपास की हो चुकी है आवक

सीएआई के अनुसार चालू फसल सीजन में कपास का उत्पादन बढ़कर 354.50 लाख गांठ होने का अनुमान है जबकि पिछले साल केवल 312 लाख गांठ कपास का उत्पादन हुआ था। चालू फसल सीजन में 31 जनवरी तक उत्पादक मंडियों में कपास की दैनिक आवक 192.89 लाख गांठ की हो चुकी है। सीएआई के अनुसार चालू फसल सीजन के आरंभ में 32 लाख गांठ का बकाया स्टॉक बचा हुआ था, जबकि 354.50 लाख गांठ के उत्पादन अनुमान के साथ ही 25 लाख गांठ आयात को मिलाकर कुल उपलब्धता 411.50 लाख गांठ की बैठेगी। कपास की घरेलू सालाना खपत 331 लाख गांठ की रहने का अनुमान है।