Home एग्रीकल्चर एग्री बिजनेस रुचि सोया के लिए पतंजलि की 4,350 करोड़ की बोली को एनसीएलटी ने दी मंजूरी
रुचि सोया के लिए पतंजलि की 4,350 करोड़ की बोली को एनसीएलटी ने दी मंजूरी
रुचि सोया के लिए पतंजलि की 4,350 करोड़ की बोली को एनसीएलटी ने दी मंजूरी

रुचि सोया के लिए पतंजलि की 4,350 करोड़ की बोली को एनसीएलटी ने दी मंजूरी

राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) ने रामदेव द्वारा संचालित पतंजलि की रुचि सोया के अधिग्रहण के लिए 4,350 करोड़ रुपये की संशोधित बोली को मंजूरी दे दी है। खाद्य तेल कंपनी रुचि सोया पर बैंकों का 9,345 करोड़ रुपये का बकाया है।

न्यायाधिकरण ने कहा कि यह मंजूरी इस बात पर निर्भर करेगी कि समाधान पेशेवर को सुनवाई की अगली तारीख एक अगस्त से पहले 600 करोड़ रुपये के कोष के सही स्रोत के बारे में सूचना देनी होगी। न्यायाधिकरण ने समाधान पेशेवर से सुनवाई की अगली तारीख से पहले समूची निपटान प्रक्रिया की वास्तविक लागत का ब्योरा देने को भी कहा है।

अगली सुनवाई होगी पहली अगस्त को

न्यायाधिकरण ने कहा कि समाधान पेशेवर को निर्देश दिया जाता है कि वह सुनवाई की अगली तारीख एक अगस्त से पहले कॉरपोरेट दिवाला निपटान प्रक्रिया की पूरी लागत का ब्योरा उपलब्ध कराए। न्यायाधिकरण ने आरपी को निर्देश दिया कि वह पूरी निपटान प्रक्रिया की वास्‍तविक कीमत का आकलन करे।

पहले अदानी विल्मर ने भी लगाई थी बोली

पतंजलि के साथ लंबे समय तक चले संघर्ष के बाद अदानी विल्मर पिछले साल अगस्त में रुचि सोया के लिए सबसे ऊंची बोली लगाने वाली कंपनी के रूप में उभरी थी। बाद में अदानी विल्मर दौड़ से हट गई थी। पतंजलि इस मामले में अंतिम बोली लगाने वाली अकेली कंपनी बची थी। लेनदारों की तरफ से भी पतंजलि की बोली मंज़ूर हो चुकी है। 97 फीसदी लेनदारों ने रुचि सोया को पतंजलि को दिए जाने पर सहमति दी है।

सोयाबीन प्रोसेसिंग की है बड़ी कंपनी है रुचि सोया

पतंजलि के प्रवक्ता एस के तिजारावाला ने कहा था कि कंपनी ने अपनी बोली 4,160 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 4,350 करोड़ रुपये की। रुचि सोया सोयाबीन प्रोसेसिंग की बड़ी कंपनी है। दिसंबर, 2017 में इंदौर की कंपनी रुचि सोया इंडस्ट्रीज को कॉरपोरेट दिवाला निपटान प्रक्रिया के लिए भेजा गया था। कंपनी के कई विनिर्माण संयंत्र हैं तथा कंपनी के प्रमुख ब्रांडों में न्यूट्रीला, महाकोश, सनरिच, रुचि स्टार और रुचि गोल्ड शामिल हैं।