Home एग्रीकल्चर एग्री बिजनेस एनसीडीईएक्स ने आईपीओ लाने के लिये सेबी को सौंपे दस्तावेज
एनसीडीईएक्स ने आईपीओ लाने के लिये सेबी को सौंपे दस्तावेज
एनसीडीईएक्स ने आईपीओ लाने के लिये सेबी को सौंपे दस्तावेज

एनसीडीईएक्स ने आईपीओ लाने के लिये सेबी को सौंपे दस्तावेज

नेशनल कमॉडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लिमिटेड (एनसीडीईएक्स) ने आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) लाने के लिये बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूर्ति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के समक्ष पेशकश का दस्तावेज जमा किया है।

दस्तावेज के अनुसार, आईपीओ में 100 करोड़ रुपये तक के नये इश्यू और शेयरधारकों के 1,44,53,774 शेयरों की बिक्री की पेशकश शामिल होगी। मर्चेंट बैंकिंग के सूत्रों ने बताया कि इस आईपीओ से 500 करोड़ रुपये की पूंजी जुटने का अनुमान है। जो शेयरधारक शेयरों की बिक्री की पेशकश करेंगे उनमें बिल्ड इंडिया कैपिटल एडवाइजर्स एलएलपी, केनरा बैंक, इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर कोऑपरेटिव लिमिटेड, इंवेस्टकॉर्प प्राइवेट इक्विटी फंड-1, जेपी कैपिटल सर्विसेज लिमिटेड, नेशनल बैंक फोर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट, ओमान इंडिया ज्वायंट इंवेस्टमेंट फंड और पंजाब नेशनल बैंक शामिल हैं।

एनसीडीईएक्स के शेयर बीएसई और एनएसई में सूचीबद्ध होने का अनुमान

आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज और एसबीआई कैपिटल मार्केट्स इस आईपीओ के प्रबंधक होंगे। एनसीडीईएक्स के शेयर बीएसई और एनएसई में सूचीबद्ध होने का अनुमान है। एनसीडीईएक्स वायदा बाजार में एग्री जिंसों का कारोबार करती है। एनसीडीईएक्स द्वारा जारी एक कारोबारी रिपोर्ट के मुताबिक जनवरी 2020 के अंत में कृषि डेरिवेटिव संविदाओं में कुल संख्या, मूल्य के हिसाब से खुले सौदों तथा दैनिक औसत व्यापार के आकार (एडीटीवी) में उसकी बाजार हिस्सेदारी क्रमशः 87 फीसदी, 81 फीसदी तथा 72 फीसदी रही। रिपोर्ट के मुताबिक एनसीडीएक्स में दैनिक औसत व्यापार 1,639 करोड़ रुपये का रहा।

एक्सचेंज में जनवरी में 37,699 करोड़ रुपये मूल्य के अनुबंधों के सौदे हुए

एक्सचेंज के अनुसार उसके यहां जनवरी माह में कुल 37,699 करोड़ रुपये मूल्य के अनुबंधों के सौदे हुए जो इस दौरान सभी बाजारों के सौदों के मूल्य का 72 फीसदी रहा। इसी तरह कृषि जिंसों के वायदा बाजार में एनसीडीईएक्स में औसत खुली स्थिति 4,203 करोड़ रुपये रही जो कुल खुली स्थिति के औसतन 81 फीसदी के बराबर रही। एनसीडीईएक्स के कार्यकारी उपाध्यक्ष कपिल देव ने बयान में कहा कि उनके यहां सोया तेल सबसे ज्यादा बेची खरीदी जाने वाली जिंस के रूप में उभरा है। इसमें वार्षिक आधार पर 127.20 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई और इसमें जनवरी में 11,048 करोड़ रुपये मूल्य के कुल सौदे हुए। जनवरी 2020 में एक्सचेंज द्वारा 42,453 टन जिंस की डिलिवरी कराई गई।

एजेंसी इनपुट