Home » एग्रीकल्चर » एग्री बिजनेस » मानसूनी बारिश सामान्य से 8 फीसदी कम, फिर भी खरीफ फसलों की बुवाई 0.72 फीसदी बढ़ी

मानसूनी बारिश सामान्य से 8 फीसदी कम, फिर भी खरीफ फसलों की बुवाई 0.72 फीसदी बढ़ी

SEP 14 , 2018

चालू खरीफ सीजन में पहली जून से 14 सितंबर तक देशभर में मानसूनी बारिश सामान्य से 8 फीसदी कम होने के बावजूद खरीफ फसलों की बुवाई में 0.72 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। कृषि मंत्रालय के अनुसार चालू सीजन में फसलों की बुवाई बढ़कर 1,053.03 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है जबकि पिछले साल इस समय तक इनकी बुवाई 1,045.55 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई थी।

धान की रोपाई 2.28 फीसदी ज्यादा

मंत्रालय के अनुसार खरीफ की प्रमुख फसल धान की रोपाई चालू खरीफ में 2.28 फीसदी बढ़कर 383.34 लाख हैक्टेयर में ही चुकी है जबकि पिछले साल इस समय तक इसकी रोपाई 374.81 लाख हैक्टेयर में ही हुई थी। दालों की बुवाई चालू खरीफ सीजन में 0.86 फीसदी घटकर 137.41 लाख हैक्टेयर में ही हुई है जबकि पिछले साल इस समय तक 138.60 लाख हैक्टेयर में दालों की बुवाई हो चुकी थी। खरीफ दलहन में मूंग और अरहर की बुवाई पिछले साल की तुलना में बढ़ी है, लेकिन उड़द की बुवाई में करीब 4 लाख हैक्टेयर की कमी आई है।

सोयाबीन की बुवाई ज्यादा, मूंगफली की कम

खरीफ तिलहनों में जहां सोयाबीन की बुवाई बढ़ी है, वहीं मूंगफली की घटी है। तिलहनों की कुल बुवाई चालू खरीफ में बढ़कर 177.29 लाख हैक्टेयर में ही चुकी है जबकि पिछले साल इस समय तक इनकी बुवाई 171.98 लाख हैक्टेयर में ही हुई थी। खरीफ तिलहन की प्रमुख फसल सोयाबीन की बुवाई चालू सीजन में बढ़कर 112.50 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है जबकि पिछले साल इस समय तक सोयाबीन की बुवाई केवल 105.76 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई थी। मूंगफली की बुवाई घटकर चालू सीजन में 40.12 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई है जबकि पिछले साल की समान अवधि में मूंगफली की बुवाई 41.31 लाख हैक्टेयर में हो चुकी थी।

केस्टर सीड की बुवाई बढ़ी

केस्टर सीड की बुवाई चालू खरीफ में बढ़कर 8.35 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है जबकि पिछले साल इस समय तक इसकी बुवाई 7.91 लाख हैक्टेयर में ही हुई थी। शीसम सीड की बुवाई पिछले साल के 13.77 लाख हैक्टेयर से बढ़कर 13.84 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है। नाईजर सीड की बुवाई पिछले साल के 1.86 से घटकर 1.37 लाख हैक्टेयर में ही हुई है।

मोटे अनाजों की बुवाई पिछड़ी

चालू खरीफ में मोटे अनाजों की बुवाई अभी तक केवल 175.46 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई है जबकि पिछले साल इस समय तक मोटे अनाजों की बुवाई 182.23 लाख हैक्टेयर में हो चुकी थी। मोटे अनाजों में मक्का की बुवाई चालू सीजन में 79.14 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है जोकि पिछले साल इस समय तक 78.02 लाख हैक्टेयर में ही बुवाई हो पाई थी। बाजरा की बुवाई घटकर अभी तक केवल 65.47 लाख हैक्टेयर में ही हुई है जबकि पिछले साल इस समय तक 70.36 लाख हैक्टेयर में बुवाई हो चुकी थी।

ज्वार की बुवाई में आई कमी

ज्वार की बुवाई चालू खरीफ में पिछले साल के 17.78 लाख हैक्टेयर से घटकर 17.68 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई है। रागी की बुवाई पिछले साल के 10.04 लाख हैक्टेयर से घटकर 8.26 लाख हैक्टेयर में ही हुई है।

कपास की बुवाई पिछले साल के लगभग बराबर

कपास की बुवाई चालू खरीफ में 120.56 लाख हैक्टेयर में ही हुई है जबकि पिछले साल इस समय तक इसकी बुवाई 120.98 लाख हैक्टेयर में हो चुकी थी। गन्ने की बुवाई चालू सीजन में बढ़कर 51.94 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है जबकि पिछले साल इस समय तक गन्ने की बुवाई 49.86 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई थी।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.