Home एग्रीकल्चर एग्री बिजनेस टिड्डियों से फसलों को हुए नुकसान के लिए गुजरात ने 31.5 करोड़ सहायता राशि मंजूर की
टिड्डियों से फसलों को हुए नुकसान के लिए गुजरात ने 31.5 करोड़ सहायता राशि मंजूर की
टिड्डियों से फसलों को हुए नुकसान के लिए गुजरात ने 31.5 करोड़ सहायता राशि मंजूर की

टिड्डियों से फसलों को हुए नुकसान के लिए गुजरात ने 31.5 करोड़ सहायता राशि मंजूर की

गुजरात सरकार ने उत्तर गुजरात में हाल में हुए टिड्डियों के हमले के कारण फसलों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए मंगलवार को 31.5 करोड़ रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की। राज्य के कृषि मंत्री आर सी फलदू ने बताया कि टिड्डियों के हमले से राज्य में करीब 25,222 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्रफल में फसलों को नुकसान हुआ है।

कृषि मंत्री ने बताया कि सर्वे में पता चला है कि राज्य के 285 गांव में टिड्डियों के हमले  से फसलों को नुकसान हुआ है तथा इससे करीब 11,000 किसान प्रभावित हुए हैं। उन्होंने बताया कि टिड्डियों के हमले से सबसे ज्यादा बनासकांठा जिले के 280 गांव में 24,472 हेक्टेयर में फसलों को नुकसान हुआ है। शेष पांच गांव पाटन जिले के दो तालुका के हैं जहां करीब 750 हेक्टेयर में रबी फसलों को नुकसान हुआ है। उन्होंने बताया कि प्रभावित गांव में सबसे ज्यादा केस्टर सीड और जीरे की फसल को नुकसान हुआ है।

राजस्थान के बाड़मेर, जालौर और जैसलमेर में भी फसलों को नुकसान

पाकिस्तान से सटे गुजरात और राजस्थान के कुछ जिलों में पाकिस्तानी टिड्डियों का आतंक जारी है। इन टिड्डियों की वजह से फसलों को भारी नुकसान हो रहा है। सरकार इन पर निगरानी रखने के लिए अल्ट्रा हाईटेक ड्रोन का इस्तेमाल कर रही है। केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने बताया कि  टिड्डी बहुत खतरनाक हैं और वे पाकिस्तान से आए हैं। हमने बड़े पैमाने पर हमारी फसलों को नष्ट करने वाली टिड्डियों से निपटने के लिए अमेरिकी विशेषज्ञों से मदद मांगी है। चौधरी ने कहा कि पाकिस्तान से सटे राजस्थान के बाड़मेर, जालौर, जैसलमेर और आसपास के जिलों में टिड्डी दलों के आतंक के चलते लगातार फसलें खराब हो रही हैं।

जापानी ड्रोन से फसलों पर कीटनाशकों का छिड़काव किया था

उन्होंने बताया कि गुजरात में भी कुछ इसी तरह की दिक्कत सामने आई थी। लेकिन राज्य सरकार के सक्रिय समर्थन के कारण केंद्र ने इस समस्या से किसानों की फसलों को बचाया है। उन्होंने बताया कि टिड्डियों का झुंड पूरी फसल को नष्ट कर देता है। चौधरी ने कहा कि शुरुआत में हमने फसलों पर कीटनाशकों का छिड़काव करने के लिए दो हाईटेक जापानी ड्रोन का इस्तेमाल किया था। हमने अब अमेरिकी विशेषज्ञों से सलाह ली है और जल्द ही समस्या का स्थायी समाधान निकालेंगे।

एजेंसी इनपुट