Home एग्रीकल्चर एग्री बिजनेस जल्द खराब होने वाले जिंसों की खरीद को सरकार ने नेफेड से जोड़ा-बादल
जल्द खराब होने वाले जिंसों की खरीद को सरकार ने नेफेड से जोड़ा-बादल
जल्द खराब होने वाले जिंसों की खरीद को सरकार ने नेफेड से जोड़ा-बादल

जल्द खराब होने वाले जिंसों की खरीद को सरकार ने नेफेड से जोड़ा-बादल

खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि सरकार ने खाद्य वस्तुओं के बहुतायत वाले क्षेत्र से जल्दी खराब होने वाले खाद्य जिंसों की खरीद करने तथा अधिक मांग वाले क्षेत्रों में इन्हें बेचने के लिए नेफेड जैसे संगठन को साथ जोड़ा है ताकि किसानों को बेहतर मूल्य ‌मिलना सुनिश्चित किया जा सके। उन्होंने कहा कि टमाटर, प्याज और आलू को अपने दायरे में लेने वाली 'ग्रीन ऑपरेशन' योजना के तहत उत्पादक राज्यों को उपभोक्ता राज्यों से जोड़ने के लिए एक तंत्र पर काम किया जा रहा है।

नेफेड के किया करार

बादल ने निर्यात केंद्रित खाद्य और पेय पदार्थ व्यापार मेले 'इंडस फूड' के दूसरे संस्करण का उद्घाटन करने के बाद कहा कि हमने इसे संभव बनाने के लिए नेफेड जैसे संगठनों के साथ पहले ही गठजोड़ कर लिया है। यह किसानों को उनकी उपज की उचित आय दिलाने में मदद करेगा। उन्होंने बयान में कहा कि सरकार इस प्रक्रिया में शामिल होगी और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग से जुड़े लोगों तक जल्द खराब होने वाले खाद्य जिंसों की पहुंच समय से संभव हो सके, यह सुनिश्चित करने के लिए सरकार सुविधा प्रदाता होगी।

कई बार अधिक उत्पादन होने पर आती है फेंकने की नौबत

नेफेड एक प्रमुख कृषि-सहकारी संस्था है जो सरकार की ओर से मुख्य रूप से दालों और तिलहन की खरीद का कार्य करती है। मंत्री ने कहा कि हर रोज हम उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, महाराष्ट्र जैसे राज्यों से किसानों द्वारा कृषि जिसों को फेंकने या अपने उपज की घबराहटपूर्ण बिकवाली करने की खबरें सुनते हैं। लेकिन जल्द ही यह स्थिति बदलने वाली है। उन्होंने कहा कि केंद्र ने पहले ही यह सुनिश्चित करने के लिए तंत्र विकसित करने का काम शुरू कर दिया है कि किसी भी वस्तु का अधिक उत्पादन करने वाले राज्य उसे दूसरे राज्यों में ले जा सकते हैं जहां उनकी अच्छी मांग है। बादल ने देश में खाद्य प्रसंस्करण के खराब स्तर पर चिंता भी व्यक्त की।