Home » देश » राज्य » गुंडागर्दी: अब हिंदू वाहिनी वालों ने युवती के साथ जा रहे मंगेतर को पीटा

गुंडागर्दी: अब हिंदू वाहिनी वालों ने युवती के साथ जा रहे मंगेतर को पीटा

APR 13 , 2017
योगी आदित्यनाथ ने जिस हिंदू युवा वाहिनी की स्थापना की थी, उसके नाम पर गुंडागर्दी की घटनाएं सामने आ रही हैं। मेरठ में यह लगातार दूसरी घटना है, जिसमें खुद को हिंदू युवा वाहिनी का कार्यकर्ता बताने वाले लोगों ने किसी की निजता का हनन करते हुए बदसलूकी की है।

मेरठ में खुद को हिंदू युवा वाहिनी का सदस्य बता रहे करीब आधा दर्जन युवकों ने मंगेतर के साथ स्कूटी से घर जा रही युवती के साथ कथित तौर पर छेड़छाड़ की। इसका विरोध करने पर मंगेतर को पिटा। इससे पहले बुधवार को भी खुद को हिंदू युवा वाहिनी का नेता बताने वाले कुछ लोगों ने मेरठ में लव जेहाद के नाम पर एक युगल से बदसलूकी की थी। 

Advertisement

हालिया घटना में मौके पर पहुंचे मंगतेर की भाई को भी पीटा गया और उसे पकड़कर थाने ले गये। पुलिस ने भी दोनों भाइयों को हवालात में डाल कर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की कार्यवाही शुरु कर दी थी। लेकिन युवती ने थाने पहुंचकर पुलिस को असलियत बताई। तब पुलिस ने दोनों भाइयों को छोड़ा और युवती की तहरीर पर आरोपी हमलावर युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। आरोपी हमलावरों में से एक को गिरफ्तार किया है।

थाना मेडिकल प्रभारी धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि कल रात खुद को हिंदू युवा वाहिनी कार्यकर्ता बता कर रहे करीब आधा दर्जन युवक दो युवकों हरीश राणा और अवनीश को थाने लेकर आये। उनका आरोप था कि दोनों युवक छेड़खाानी कर रहे थे। इसी दौैरान वह युवती भी थाने पहुुंच गई, जिसेे छेड़ने का आरोप दोनों युवकों पर लगाया जा रहा था। युवती की बात सुनने के बाद पुलिस ने दोनों युवकों को छोड़कर हमलावर युवकों अंकित और सागर के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। थाना प्रभारी के अनुसार मुख्य आरोपी अंकित को गिरफ्तार किया जा चुकी है जबकि सागर की तलाश जारी है।

हरीश ने बताया कि उनकी मंगेतर एक निजी बैंक में काम करती है। बैंक में देर हो जाने पर रात करीब नौ बजे वह अपनी मंगतेर को स्कूटी से उसके घर पर छोड़ने जा रहे थे। रास्ते में खड़े करीब आधा दर्जन युवकों ने उन्हें रोका और खुद को हिंदू युवा वाहिनी का कार्यकर्ता बताते हुए एंटी रोमियो अभियान के नाम पर उनकी मंगेतर से छेड़छाड़ की। विरोध करने पर आरोपी युवक उन्हें पीटते हुए थाने ले गये।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.