Home » देश » राज्य » बैजल ने दिल्ली के उपराज्यपाल पद की शपथ ली

बैजल ने दिल्ली के उपराज्यपाल पद की शपथ ली

DEC 31 , 2016
पूर्व नौकरशाह अनिल बैजल ने आज दिल्ली के 20 वें उपराज्यपाल पद की शपथ ली और केंद्र तथा आप सरकार के बीच खराब संबंधों को ठीक करने पर सधी हुई प्रतिक्रिया जताई। पूर्व उपराज्यपाल के शासन काल के दौरान संबंध काफी खराब हुए थे। केंद्रीय गृह सचिव सहित केंद्र में कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे 70 वर्षीय बैजल ने को दिल्ली उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश जी. रोहिणी ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई।

बैजल ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा, प्रदूषण, यातायात भीड़भाड़ की चुनौतियों से निपटना और आधारभूत संरचनाओं को मजबूत करना उनकी प्राथमिकताओं में शामिल होगा। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल,  राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया , दिल्ली के मुख्य सचिव एम एम कुट्टी और नई दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेन्द्र गुप्ता ने शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लिया।

Advertisement

पूर्व उपराज्यपाल जंग और महानगर की सरकार के बीच नौकरशाही पर नियंत्रण सहित कई मुद्दों पर टकराव के बारे में पूछने पर बैजल ने कहा कि  यह कयास लगाने वाली बातें हैं और मुझे नहीं मालूम कि संबंध कैसे सुधरेंगे। हम बैठकर बात करेंगे और फिर आपको पता चलेगा।

बैजल की नियुक्ति का स्वागत करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज कहा कि उन्हें उम्मीद है कि राष्टीय राजधानी में जो काम रूके पड़े हैं, उनमें नए उपराज्यपाल अनिल बैजल के कार्यकाल में तेजी आएगी।

केजरीवाल ने कहा कि  मुझे काफी उम्मीद है कि भविष्य में हम सब विधायक,  दिल्ली सरकार,  दिल्ली के लोग दिल्ली के विकास के लिए उपराज्यपाल के साथ मिलकर काम करेंगे। उन्होंने कहा कि  पिछले कुछ महीने में दिल्ली सरकार के कुछ काम स्थगित हैं। मुझे उम्मीद है कि इन कार्यों में तेजी आएगी।

बैजल ने कहा कि कानून-व्यवस्था की स्थिति सुधारने, महिलाओं की सुरक्षा, यातायात भीड़भाड़ कम करने के अलावा आधारभूत ढांचे को मजबूत करने और नागरिक सुविधाओं को सुधारने के लिए वह हरसंभव प्रयास करेंगे।

वर्ष 1969 बैच के आईएएस अधिकारी बैजल अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में केंद्रीय गृह सचिव थे और अन्य मंत्रिामंडलों में महत्वपूर्ण पदों पर रहे। बैजल 2006 में शहरी विकास मंत्रालय के सचिव पद से सेवानिवृत्त हुए थे। वह दिल्ली विकास प्राधिकरण के पूर्व उपाध्यक्ष भी रहे। वह मनमोहन सिंह सरकार द्वारा 60 हजार करोड़ रूपये के जवाहरलाल नेहरू शहरी नवीनीकरण मिशन (जेएनएनयूआरएम) का प्रारूप तैयार करने और लागू करने में सक्रिय रूप से जुड़े रहे। पूर्व नौकरशाह विवेकानंद अंतरराष्ट्रीय फाउंडेशन की कार्यकारी परिषद् में भी थे।

नियमों के सख्त पाबंद माने जाने वाले बैजल को शुंगलू समिति की रिपोर्ट सहित कई महत्वपूर्ण निर्णय करने होंगे। समिति का गठन जंग ने किया था जिसमें आप सरकार की तरफ से पिछले दो वर्षों के दौरान किए गए निर्णयों से जुड़ी 400 फाइलों की जांच की जानी है। (एजेंसी)


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से
आपका आज का भविष्यफल
आपका आज का भविष्यफल
आपका आज का भविष्यफल
आपका आज का भविष्यफल
आपका आज का भविष्यफल
आपका आज का भविष्यफल
आपका आज का भविष्यफल
आपका आज का भविष्यफल
आपका आज का भविष्यफल
आपका आज का भविष्यफल
आपका आज का भविष्यफल
आपका आज का भविष्यफल

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.